Category: जितेन्द्र श्रीवास्तव

कायांतरण

दिल्ली के पत्रहीन जंगल में छाँह ढूँढ़ता भटक रहा है एक चरवाहा विकल अवश उसके साथ डगर रहा है झाग छोड़ता उसका कुत्ता कहीं पानी भी नहीं कि धो …

अपनों के मन का

स्व० भवानी प्रसाद मिश्र को याद करते हुए मैं कवि नहीं झूठ फ़रेब का रुपया-पैसा सोने-चांदी का मैं कवि हूँ जीवन का सपनों का उजास भरी आँखों का मैं …

तुम्हारा होना-1

तुम हो यहीं आस-पास जैसे रहती हो घर में घर से दूर यह एक अकेला कमरा भरा है तुम्हारे होने के अहसास से होना सिर्फ़ देह का होना कहाँ …

पहाड़ को जानना

सूर्य उदित पहाड़ मुदित सूर्य अस्त पहाड़ मस्त हो सकता है कुछ लोगों के लिए यह सच हो दूध के रंग जितना पर इसे पूरा-पूरा सच मान लेना पहाड़ …

जो उतरती ही नहीं मन रसना से

घर से दूर ट्रेन में पीते हुए चाय साथ होता है अकेलापन वीतरागी-सा होता है मन शक्कर चाहे जितनी अधिक हो मिठास होती है कम चाय चाहे जितनी अच्छी …

अंधेरा

वहाँ पसरा है मौत के बाद का सन्नाटा हवा की साँय-साँय में घुला है भय झींगुरों की आवाज़ विलीन हो रही है विधवाओं के विलाप में झगड़ा महज एक …

मानुष राग

धन्यवाद पिता कि आपने चलना सिखाया अक्षरों शब्दों और चेहरों को पढ़ना सिखाया धन्यवाद पिता कि आपने मेंड़ पर बैठना ही नहीं खेत में उतरना भी सिखाया बड़े होकर …