Category: जिगर मुरादाबादी

साक़ी से ख़िताब(एक नज़्म)

कहाँ से बढ़के पहुँचे हैं कहाँ तक इल्म-ओ-फ़न साक़ी मगर आसूदा इन्साँ का न तन साक़ी न मन साक़ी ये सुनता हूँ कि प्यासी है बहुत ख़ाक-ए-वतन साक़ी ख़ुदा हाफ़िज़ चला …

साक़ी की हर निगाह पे बल खा के पी गया

साक़ी की हर निगाह पे बल खा के पी गया लहरों से खेलता हुआ लहरा के पी गया बेकैफ़ियों के कैफ़ से घबरा के पी गया तौबा को तोड़-ताड़ …

शायर-ए-फ़ितरत हूँ मैं जब फ़िक्र फ़र्माता हूँ मैं

शायर-ए-फ़ितरत हूँ मैं जब फ़िक्र फ़र्माता हूँ मैं रूह बन कर ज़र्रे-ज़र्रे में समा जाता हूँ मैं आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं जैसे …

वो काफ़िर आशना ना आश्ना यूँ भी है

वो काफ़िर आशना ना-आश्ना यूँ भी है और यूँ भी हमारी इब्तदा ता-इंतहा यूँ भी है और यूँ भी त’अज्जुब क्या अगर रस्म-ए-वफ़ा यूँ भी है और यूँ भी …

वो अदाए-दिलबरी हो कि नवाए-आशिक़ाना

वो अदाए-दिलबरी हो कि नवाए-आशिक़ाना। जो दिलों को फ़तह कर ले, वही फ़ातहेज़माना॥ कभी हुस्न की तबीयत न बदल सका ज़माना। वही नाज़े-बेनियाज़ी वही शाने-ख़ुसरवाना॥ मैं हूँ उस मुक़ाम …

लाख बलाये एक नशेमन

कोई ये कह दे गुलशन गुलशन लाख बलाये एक नशेमन कामिल रहबर क़ातिल रहज़न दिल सा दोस्त न दिल सा दुश्मन फूल खिले हैं गुलशन गुलशन लेकिन अपना अपना …

ये हुजूमे-ग़म ये अन्दोहो-मुसीबत देखकर

ये हुजूमे-ग़म ये अन्दोहो-मुसीबत देखकर अपनी हालत देखता हूँ उसकी हालत देखकर शब्दार्थ: ↑ दुखों का झुण्ड ↑ दुख और व्यथा

ये सब्जमंद-ए-चमन है

ये सब्जमंद-ए-चमन है जो लहलहा ना सके वो गुल है ज़ख्म-ए-बहाराँ जो मुस्कुरा ना सके ये आदमी है वो परवाना, सम-ए-दानिस्ता जो रौशनी में रहे, रौशनी को पा ना …

यादे-जानाँ भी अजब रूह-फ़ज़ा आती है

यादे-जानाँ भी अजब रूह-फ़ज़ा  आती है साँस लेता हूँ तो जन्नत की हवा आती है मर्गे-नाकामे-मोहब्बतमेरी तक़्सीरमुआफ़ ज़ीस्त बन-बन के मेरे हक़ में क़ज़ा  आती है नहीं मालूम वो ख़ुद हैं कि मोहब्बत …

याद

आई जब उनकी याद तो आती चली गई हर नक़्श-ए-मासिवा को मिटाती चली गई हर मन्ज़र-ए-जमाल दिखाती चली गई जैसे उन्हीं को सामने लाती चली गई हर वाक़या क़रीबतर …

हाँ किस को है मयस्सर ये काम कर गुज़रना

हाँ किस को है मयस्सर ये काम कर गुज़रना इक बाँकपन से जीना इक बाँकपन से मरना दरिया की ज़िन्दगी पर सदक़े हज़ार जानें मुझ को नहीं गवारा साहिल …

हर सू दिखाई देते हैं वो जलवागर मुझे

हर सू1 दिखाई देते हैं वो जलवागर2 मुझे क्या-क्या फरेब3 देती है मेरी नज़र4 मुझे डाला है बेखुदी5 ने अजब राह पर मुझे आँखें हैं और कुछ नहीं आता नज़र मुझे दिल ले के …

हमको मिटा सके ये ज़माने में दम नहीं

हमको मिटा सके ये ज़माने में दम नहीं हमसे ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम नहीं बेफ़ायदा अलम नहीं, बेकार ग़म नहीं तौफ़ीक़ दे ख़ुदा तो ये ने’आमत भी …

सोज़ में भी वही इक नग़्मा है जो साज़ में

सोज़ में भी वही इक नग़्मा है जो साज़ में है फ़र्क़ नज़दीक़ की और दूर की आवाज़ में है ये सबब है कि तड़प सीना-ए-हर-साज़ में है मेरी आवाज़ भी …

वो अदाए-दिलबरी हो कि नवाए-आशिक़ाना

वो अदाए-दिलबरी हो कि नवाए-आशिक़ाना। जो दिलों को फ़तह कर ले, वही फ़ातहेज़माना॥ कभी हुस्न की तबीयत न बदल सका ज़माना। वही नाज़े-बेनियाज़ी वही शाने-ख़ुसरवाना॥ मैं हूँ उस मुक़ाम …

निगाहों से छुप कर कहाँ जाइएगा

निगाहों से छुप कर कहाँ जाइएगा जहाँ जाइएगा, हमें पाइएगा मिटा कर हमें आप पछताइएगा कमी कोई महसूस फ़र्माइएगा नहीं खेल नासेह! जुनूँ की हक़ीक़त समझ लीजिए तो समझाइएगा …

निगाहों का मर्कज़ बना जा रहा हूँ

निगाहों का मर्कज़ बना जा रहा हूँ महब्बत के हाथों लुटा जा रहा हूँ मैं क़तरा हूँ लेकिन ब-आग़ोशे-दरिया अज़ल से अबद तक बहा जा रहा हूँ वही हुस्न जिसके हैं ये …

न ताबे-मस्ती न होशे-हस्ती कि शुक्रे-नेमत अदा करेंगे

न ताबे-मस्ती न होशे-हस्ती कि शुक्रे-ने’मतअदा करेंगे ख़िज़ाँ में जब है ये अपना आलम बहार आई तो क्या करेंगे हर एक ग़म को फ़रोग़ देकर यहाँ तक आरस्ता करेंगे वही जो रहते हैं दूर हमसे …

न जाँ दिल बनेगी न दिल जान होगा

न जाँ दिल बनेगी न दिल जान होगा ग़मे-इश्क़ ख़ुद अपना उन्वान होगा ठहर ऐ दिले-दर्दमंदे-मोहब्बत तसव्वुर किसी का परेशान होगा मेरे दिल में भी इक वो सूरत है …

दिले हजीं की तमन्ना दिले-हजीं में रही

दिले हजीं  की तमन्ना दिले-हजीं  में रही ये जिस ज़मीं की थी दुनिया उसी ज़मीं में रही हिजाब  बन न गईं हों हक़ीक़तें  बाहम  कि बेसबब  तो कशाकश  न कुफ़्रो-दीं  में रही सरे-नियाज़  न जब तक किसी …

दिल में तुम हो नज़्अ का हंगाम है

दिल में तुम हो नज़अ का हंगाम है कुछ सहर का वक़्त है कुछ शाम है इश्क़ ही ख़ुद इश्क़ का इनआम है वाह क्या आग़ाज़ क्या अंजाम है दर्द-ओ-ग़म दिल की तबीयत …

दिल में किसी के राह

दिल में किसी के राह किये जा रहा हूँ मैं कितना हसीं गुनाह किये जा रहा हूँ मैं दुनिया-ए-दिल तबाह किये जा रहा हूँ मैं सर्फ़-ए-निगाह-ओ-आह किये जा रहा …