Category: जयन्ती प्रसाद शर्मा

गंगा महात्यम

गंगा माता मोक्ष दायिनी, भक्ति मुझे दो अनपायिनी। नहीं साधारण, तेरा जल है गंगाजल, मज्जन कर जो करें आचमन- उनको तू दे देती अमित फल। कलुष तन मन का …

अंग्रेजी में निमंत्रण पत्र

अंग्रेजी में निमंत्रण पत्र प्राप्त कर- दिल हो गया बाग बाग। अपने को आभिजात्य वर्ग से जुड़ने पर- हो रही थी अपार प्रसन्नता। सच ‘सोनी वेड्स मोनी’ शब्दों का …

मुझको यारो माफ करना

मुझको यारो माफ करना मैं नशे में हूँ, होश में मुझको न लाना मैं मजे में हूँ। दीन दुनिया की नहीं मुझको खबर, अह्सासे दर्द से हूँ बेखबर। कोई …

संघातिक नैन

संघातिक हैं नैन तुम्हारे, जब से नज़र मिलाई तुमने– दुर्दिन आये हमारे . . . . संघातिक ……। कनखइयों से मारी दीठ, मुस्काईं फिर देकर पीठ। उतराए सीधे मेरे …

भाई साहब शुभ प्रभात

भाई साहब शुभ प्रभात- क्यों म्लान है मुख, शिथिल गात………………भाई साहब……….। मैंने आपको उच्च पीठासीत देखा है, मैंने आपका गौरवशाली अतीत देखा है। स्वघोषित ये रौद्रावतार, लोगों को आपसे …

मै कोई गीत गाना चाहता हूँ

मै कोई गीत गाना चाहता हूँ साध सकता क्या सुरों को- आजमाना चाहता हूँ    ………………… मै कोई गीत…………….. । फगवा गाऊँ, कजली गाऊँ, सोरठ गाऊँ, ये गाऊँ या वो …

मन का बोझ

अपनों की उपेक्षा व असंवेदना ने कर दिया था उसे- कुंठाग्रस्त। लोगों के सर्द व्यवहार से उसके मन मस्तिष्क पर फैल गई थी- बर्फ की एक मोटी परत। जड़ …

मेरी बारी कब आयेगी?

मेरी बारी कब आयेगी? लोग आते हैं करते है सिद्ध औचित्य अपनी त्वरितता का- और मै उन्हें अपने से आगे जाने का रास्ता दे देता हूँ। कुछ लोग कातर …

मेरी चाह

साहित्य समाज का दर्पण है- और समाज मनुष्य के व्यक्तित्व का कृतित्व का। मै इस कद्दावर समाज में, साहित्य में प्रतिबिम्ब उसके बिम्ब में, मैग्नीफाइंग ग्लास की मदद से …

मैंने पूँछा कब आओगे

मैंने पूँछा  कब आओगे, मेरे मन के सूखे उपवन में, प्रेम सुधा कब बरसाओगे ……………….. मैंने पूँछा कब आओगे….। अतृप्त है मन,  संतप्त है तन, तेरी बेरुखी से, अभिशप्त बना …

मुझे साजन के घर जाना

मुझे साजन के घर जाना है। आओ शीलू, नीलू आओ तुमने मुझे सजाना है।…….मुझे साजन…….। करना मेरा षोडश श्रृंगार, जायें सजन दिल अपना हार। भूल जायें आंखें झपकाना- अनुपम …

शिवस्तुति

शिवा कान्त की बोलो जय, करुणा कर सब कष्ट हरेंगे, कर देंगे तुमको निर्भय ………शिवाकांत………..। महादेव देवाधिदेव, मेरे आराध्य तुम एक मेव, मूलाधार प्रभु तुम मेरे मुझको आलम्बन सर्वदा …

पारम्परिक प्रतिद्व्न्दी

पाक भारत का, भारत पाक का है– पारम्परिक प्रतिद्व्न्दी। इनकी प्रतिद्व्न्दता है सास बहु जैसी– जिसके लिए किसी मुद्दे की जरुरत नही होती। बहु परदे की ओट से दिखा …

ठुकराओ मत मेरा प्यार

ठुकराओ मत प्यार मेरा। अह्सासे हुस्न से तनी हुई हो, हर मन की चाहत बनी हुई। हैं बहुत चाहने वाले तेरे, अभी प्रसंशक तेरे घनेरे। नहीं भाव में मुझको …

मै कौन हूँ?

लोग अक्सर पूंछते हैं मुझसे- मै कौन हूँ मेरी पहचान क्या है? मै हो जाता हूँ किंकर्तव्य विमूढ़, नहीं सोच पाता हूँ- अपने को परिभाषित करने के लिये क्या …

रहना चाहता था मै निरापद

रहना चाहता था मै निरापद, बचता रहा नदी, नाले और बम्बे से, नहीं छुआ भडकते शोलों को, रहा दूर बिजली के खम्बे से। बचते बचाते भी एक दिन भारी …

सपना

मैंने एक सपना  देखा, आज पार्क में घूम रही थी मेरे संग अभिनेत्री रेखा……मैंने एक…….। वह संग संग मेरे डोल रही थी, मुझको नजरो से तोल रही थी। सुन्दर …