Category: हरिओम कुमार

अपना हमें बना लेना …

हमको ख्वाबों में ख्यालों में तुम बसा लेना, अपने होठो पे हमको गीतों-सा सजा लेना, हम क़यामत तलक न साथ तेरा छोड़ेंगे, हम हैं हाज़िर, हमें जब चाहे आजमा …

जिदंगी जैसी है यारो; खूबसूरत है

जिदंगी जैसी है यारो; खूबसूरत है, है ख़ुशी की भी ग़मों की भी जरुरत है, ना चला है जोड़ जीवन में किसी भी वीर का, वक़्त के साम्राज्य में …

मुझे भी जगमगाना है …

हो आँखों में भले आँसू, लबों को मुस्कुराना है, यहाँ सदियों से जीवन का,यही बेरंग फ़साना है, है मन में सिसकियाँ गहरी,दिलों में दर्द का आलम, मगर हालात के …