Category: हरि शंकर सैनी

“एक सफ़र” – दुर्गेश मिश्रा

– एक सफ़र देखे मैंने इस सफर में दुनिया के अद्भुत नज़ारे, दूर बैठी शोर गुल से यमुना को माटी में मिलते | की देखा मैंने इस सफर में….. …

जिन्दगी तु आज मुझको ए बता ।

जिन्दगी तु आज मुझको ए बता ।                                                                                                                                                                                                                          कहाँ है तेरी मंजिल मुझको दे पता ।। 1- तुझको ढुढ़ा गीता और कुरान मेँ ।    असफल हुआ मै इस जहाँन मेँ …

इक बार आके मेरा गाँव देखिए !

इक बार आके मेरा गाँव देखिए ! कितने बदल गये है लोग, उनका स्वभाव देखिए ।। माँ कि तरह भाभियाँ भी, जहाँ करती थी इन्तजार । बदला हुआ है उनका …

सर्वप्रथम उन वीरोँ को

जिन्होने अपनी मातृभूमि कि, स्वतन्त्रता मेँ किया है काम । सर्वप्रथम उन वीरोँ को, दिल से मै करता हूँ प्रणाम ॥ आओ उनको याद करे हम, जिन्होने लुटा दी …