Category: घनानंद

हीन भएँ जल मीन अधीन

सवैया हीन भएँ जल मीन अधीन कहा कछु मो अकुलानि समाने। नीर सनेही कों लाय अलंक निरास ह्वै कायर त्यागत प्रानै। प्रीति की रीति सु क्यों समुझै जड़ मीत …

स्याम घटा लपटी थिर बीज

स्याम घटा लपटी थिर बीज कि सौहै अमावस-अंक उज्यारी। धूप के पुंज मैं ज्वाल की माल सी पै दृग-सीतलता-सुख-कारी। कै छवि छायो सिंगार निहारि सुजान-तिया-तन-दीपति प्यारी। कैसी फ़बी घनआनँद …

सोंधे की बास उसासहि रोकति

सौंधे की बास उसासहिं रोकत, चंदन दाहक गाहक जी कौ । नैनन बैरी सो है री गुलाल, अधीर उड़ावत धीरज ही कौ ॥ राग-विराग, धमार त्यों धार-सी लौट परयौ …

वैस की निकाई, सोई रितु सुखदाई

वैस की निकाई, सोई रितु सुखदायी, तामें – वरुनाई उलहत मदन मैमंत है । अंग-अंग रंग भरे दल-फल-फूल राजैं, सौरभ सरस मधुराई कौ न अंत है ॥ मोहन मधुप …

वहै मुसक्यानि, वहै मृदु बतरानि, वहै

वहै मुसक्यानि, वहै मृदु बतरानि, वहै लड़कीली बानि आनि उर मैं अरति है। वहै गति लैन औ बजावनि ललित बैन, वहै हँसि दैन, हियरा तें न टरति है। वहै …

लाजनि लपेटि चितवनि

लाजनि लपेटि चितवनि भेद-भाय भरी लसति ललित लोल चख तिरछानि मैं। छबि को सदन गोरो भाल बदन, रुचिर, रस निचुरत मीठी मृदु मुसक्यानी मैं। दसन दमक फैलि हमें मोती …

राधा नवेली सहेली समाज में

राधा नवेली सहेली समाज में, होरी कौ साज सजें अतो सोहै । मोहन छैल खिलार तहाँ रस-प्यास भरी अँखियान सों जोहै ॥ डीठि मिलें, मुरि पीठि दई, हिय-हेत की …

मोसों होरी खेलन आयो

(राग कान्हरौ ) मोसों होरी खेलन आयौ । लटपटी पाग, अटपटे बैनन, नैनन बीच सुहायौ ॥ डगर-डगर में, बगर-बगर में, सबहिंन के मन भायौ । ’आनँदघन’ प्रभु कर दृग …

भोर तें साँझ लौ कानन ओर निहारति

सवैया भोर तें साँझ लौ कानन ओर निहारति बावरी नेकु न हारति। साँझ तें भोर लौं तारनि ताकिबो तारनि सों इकतार न टारति। जौ कहूँ भावतो दीठि परै घनआनँद …

बहुत दिनान के अवधि-आस-पास परे

बहुत दिनान के अवधि-आस-पास परे, खरे अरबरनि भरे हैं उठि जान कौ। कहि कहि आवन सँदेसो मनभावन को, गहि गहि राखत हैं दै दै सनमान कौ। झूठी बतियानि की …

बरसै तरसै सरसै अरसै न्

बरसैं तरसैं सरसैं अरसैं न, कहूँ दरसैं इहि छाक छईं। निरखैं परखैं करखैं हरखैं उपजी अभिलाषनि लाख जईं। घनआनँद ही उनए इनि मैं बहु भाँतिनि ये उन रंग रईं। …

प्रेम को महोदधि अपार

प्रेम को महोदधि अपार हेरि कै, बिचार, बापुरो हहरि वार ही तैं फिरि आयौ है। ताही एकरस ह्वै बिबस अवगाहैं दोऊ, नेही हरि राधा, जिन्हैं देखें सरसायौ है। ताकी …

प्रीतम सुजान मेरे हित के

कवित्त प्रीतम सुजान मेरे हित के निधान कहौ कैसे रहै प्रान जौ अनखि अरसायहौ। तुम तौ उदार दीन हीन आनि परयौ द्वार सुनियै पुकार याहि कौ लौं तरसायहौ। चातिक …

पूरन प्रेम को मंत्र

पूरन प्रेम को मंत्र महा पन, जा मधि सोधि सुधारि है लेख्यौ। ताही के चारू चरित्र बिचित्रनि यौं पचि कै राचि राखि बिसेख्यौं ऎसो हियो-हित-पत्र पवित्र जु आन कथा …

पिय के अनुराग सुहाग भरी

पिय के अनुराग सुहाग भरी, रति हेरौ न पावत रूप रफै । रिझवारि महा रसरासि खिलार, सुगावत गारि बजाय डफै ॥ अति ही सुकुमार उरोजन भार, भर मधुरी ड्ग, …

पहिले घन-आनंद सींचि सुजान कहीं बतियाँ

पहिले घन-आनंद सींचि सुजान कहीं बतियाँ अति प्यार पगी। अब लाय बियोग की लाय बलाय बढ़ाय, बिसास दगानि दगी। अँखियाँ दुखियानि कुबानि परी न कहुँ लगै, कौन घरी सुलगी। …

परकाजहि देह को धारि फिरौ

परकाजहि देह को धारि फिरौ परजन्य जथारथ ह्वै दरसौ। निधि-नीर सुधा के समान करौ सबही बिधि सज्जनता सरसौ। घनआनँद जीवन दायक हौ कछू मेरियौ पीर हियें परसौ। कबहूँ वा …

दसन बसन बोली भरि ए रहे गुलाल

दसन बसन बोली भरि ए रहे गुलाल हँसनि लसनि त्यों कपूर सरस्यौ करै । साँसन सुगंध सौंधे कोरिक समोय धरे, अंग-अंग रूप-रंग रस बरस्यौ करै ॥ जान प्यारी तो …