Category: धनपाल

भविष्यदत्त कहा

कर चरण वर कुसुम लेवि। जिणु सुमिरवि पुप्फांजलि खिवेवि॥ फासुय सुयंद रस परिमलाइं। अहिल सिरि असेसइं तरूहलाइं॥ थिउ दीसवंतु खणु इक्कु जाम। दिनमणि अत्थ वणहु ढुक्कुताम॥ हुअ संध तेय …