Category: दीपांकर सेठी

पन्द्रह अगस्त प्यारा,पन्द्रह अगस्त है

१-जन मिल के खड़े सावधान,होता जब राष्ट्र-गान ह्रदय मन गाए-गान,तिरंगे कृति भव्य सम्मान शक्ति दिवस है ये,देश भक्ति दिवस है पन्द्रह अगस्त प्यारा,पन्द्रह अगस्त है २-बड़े गर्व से जमी …

अजब हेरान हूँ मै

अजब हेरान हूँ मै,भगवन तुझे कैसे रिझाऊँ मै कोई वस्तु नही ऐसी,जिसे सेवा में लाऊं मै हो मूर्ति में तुम व्यापक,तुम हो फूलों में फिर भला भगवान पे,कैसे भगवान …

फहराएँ तिरंगा देकर सलाम

हिन्द-मुश्लिम-सिख-ईसाई जुदा न होंगे चारों भाई, हम लेंगे शपथ कर्तव्यों की आज भारत पर होगा अपना ही राज, अपनी डगर होगी सच्ची-साधी न छिनने दें कभी वतन ए आजादी, …

कूल-कूल है दोस्त कम्प्यूटर

स्कूल हमारा कूल-कम्प्यूटर |1| सभी का दोस्त है कम्प्यूटर |2| जरुरत बना है अब कम्प्यूटर |3| दे रोजगार बहेतर कम्प्यूटर |4| खेल-खिलाता हमें कम्प्यूटर|5| अनंत ज्ञान बना कम्प्यूटर|6| शिक्षा …

जग की दुश्मन बनी गरीबी

जग की दुश्मन बनी गरीबी,लालच बना है सबका दोस्त नाश किया है अनपढ़ता ने,पकड रही लाचारी जोर हिम्मत कर आगे बढ़ जाना,हमें अपनी मंजिल पाना है कठिन परिश्रम और …

मत सिखलाना बच्चों को

मत सिखलाना बच्चों को वे अवगुण जो नुकसान करे, पश्च्ताना पड़े खुद तुमको भी न बच्चों को आराम मिले, मैर न लेना गलती से बच्चे की चाहे जिद्दी बालक …

जय-जय-जय भारत प्यारा

खुशियों का यह देश है अपना,बढ़ता जाए रातों- दिन ईद-दीवाली-क्रिशमश-लोहड़ी,हर दिन है खुशियों का दिन भारत जैसा देश न दूजा,सब देशों से है न्यारा हिन्दू-मुशलिम-सिख-ईसाई,बना रहे भाई चारा देश …

पढलो रे – पढलो रे

मुखड़ा: पढलो रे – पढलो रे – पढलो, रोज दो चार अक्षर ही पढलो ज्ञान पाना बहुत ही जरुरी, पढके हो जाएं हसरतें पूरी अन्तरा: तरक्की मिले झोली भरके, …

हम बच्चे प्रात:उठ जाते

हम बच्चे प्रात:उठ जाते ठण्डे पानी से, खूब नहाते, नहा-धो नित ताजा हो जाते घडियाली देख वर्दी पहनते, स्कूल नियम-पालन से जाते नास्ता भी झट से खाते , हम …

मेरी किताब मेरा ज्ञान

मुखड़ा: कोई जब राह न पाए, मेरे संग आए के पढ़-पढ़ ज्ञान बढाए, मेरी किताब मेरा ज्ञान – २ अन्तरा: अनपढ़ का यही है दस्तूर, ज्ञान बिना अकेला मजबूर …

सूर्य देव जी हँसते आते

सूर्य देव जी हँसते आते हलके ताप से हमें जगाते, गर्मी में गुस्सा दिखलाते सर्दी में सब जन को सुहाते, धरती तपती अंबर तपता अग्नि देव का ताप न …

नन्हे मुन्हे बच्चे हैं

नन्हे मुन्हे बच्चे हैं हम देश के सच्चे बच्चे हैं, मर-मिट जाएँ देश की खातिर साहसी वीर हम अच्छे हैं, मात-पिता की आँख के तारे नटखट प्यारे-प्यारे हैं, मुस्काते …

अक्की बक्की

अक्की बक्की करें तरक्की तेरी मेरी दोस्ती पक्की , हम दोनों हैं,कितने लक्की दोनों मिलकर,करें तरक्की , गेंहूं पीस रही है चक्की अच्छी लगे न पूरी कच्ची , माँ …