Category: छोटेलाल सिंह

संविधान निर्माता जय हे ! संविधान निर्माता जय हे ! संविधान निर्माता जग जीवन के हो सुख दाता रत्न अमूल्य हो सकल धरा के तुमसे ही ये गुलशन महके …

संसार की अचिरता

संसार की अचिरता पिता की अंगुलियां नादान शिशु के डगमग पाँव अबोध मन की आशा शनैः शनैः जीवन पथ पर अग्रसर नव चिराग की हसरत उमंग तरंग में रोशनी …

श्रद्धा और श्राद्ध

श्रद्धा से नमन होगा श्राद्ध ये सफल होगा अपनी मर्जी के मालिक सब यहाँ दिखते हैं बडो के प्रति बड़प्पन वाले कहाँ मिलते हैं !! दम्भ का दमन होगा …

जूझती जिन्दगी

जूझती जिन्दगी ************* हार गयी हिम्मत इंसानियत के नाम से जूझती जिंदगी महफूज़ नहीँ बेलगाम से खून मैला है मैले आदमी की डरती मानवता हर शैतान से दुश्वारियों के …

कजरी

अबकी सावन में झलुवा झुलाईदा पिया बनारस घुमाईदा पिया ना संकट मोचन देखावा मानस मंदिर घुमावा बात माना मोर जिया बहलाईदा पिया बनारस घुमाईदा पिया ना सारनाथ हम जइबै …

जिन्दगी अधूरी है

जिन्दगी अधूरी है ************** बाप देखो बुढ़े हैं माँ भी देखो बूढ़ी है सेवा सत्कार बिना जिंदगी अधूरी है । वक्त की दुहाई देता कारवां ये जा रहा जिसको …

रख न सका अपने को सुरक्षित

रख न सका अपने को सुरक्षित बेकसूर इंसान यहाँ जालिम जुल्म के घनचक्कर में लुट जाता अरमान यहाँ. काल कोठरी के कालिख में क्रूरता की हद हो गयी दुर्जनता …