Category: चन्द्र प्रताप सिंह

*****वक्त का जामुन*******

बचपन में घर के पीछे एक खुशमिजाज रास्ता था कच्चा, कुछ कांटो के ताज से सजा हुआ शायद लोग उसे पगडण्डी कहते थे पगडण्डी ही रही होगी चलते वक्त …

क्या कहे – ७

तुम राग अलापो शंखनाद हम मस्जिद अजान बजायंगे तुम मंदिर मंदिर तिलक लगाओ हम पश्चिम सजदा जाएंगे तुम उन्हें पुकारो काशी घाट पर हम इन्हे मदरसे लाएंगे तुम त्रिशूलों …