Category: बिकास चन्द्र राव

समर्पण…………

समर्पण………… मिटटी का मानव, संवेदना की पोटली, कठोर पुरुषत्व, क्रोध,प्रेम,हँसी-ठिठोली, परत दर परत भंडारित अनुभव, धन-धान्य,सम्मान,हर्ष और वैभव, परिपूर्ण जीवन, फिर भी खालिसपन, न उम्मीद, न सम्भव, समय का …