Category: बैद्यनाथ ‘सारथी’

||ग़ज़ल सारथी|| दोस्त कोई न मेह्रबाँ कोई

दोस्त कोई, न मेह्रबाँ कोई काश मिल जाए, राज़दाँ कोई !! दिल की हालत, कुछ आज ऐसी है जैसे लूट जाए, कारवाँ कोई !! एक ही बार, इश्क़ होता …

||ग़ज़ल सारथी||चल आज दिल फिर प्यार से , उस नाज़नी को याद कर

चल आज दिल फिर प्यार से, उस नाज़नी को याद कर !! वही गेसुओं की छांव को, उसी ताजगी को याद कर !! रख फिर गुलाब खतुत में, तरकीब …

||ग़ज़ल सारथी|| तमन्ना जाग उठती है तेरे कूचे में आने से

तमन्ना जाग उठती है, तेरे कूचे में आने से तेरे चिलमन हटाने से, जरा सा मुस्कुराने से !! अजब ही दौर था जालिम, ग़ज़ल की नब्ज़ चलती थी मेरी …