Category: अरविन्द श्रीवास्तव

‘उम्मीदों के सितारे’_अरुण कुमार तिवारी

‘उम्मीदों के सितारे’ _अरुण कुमार तिवारी उम्मीदों के सितारे, चमके तब नील गगन में| जब उत्साहों के कटे पंख, तड़पे मन चातक निरख स्वाति, जब लक्ष्य नव्य फूटे कोपल, …

हमारा प्रेम

इतिहास से पढ़ाई की और करता हूँ चाकरी कविता की करता हूँ चौका वर्तन झाड़ू-बहारू रोपता हूँ फूल-पत्तियाँ लगाता हूँ उद्यान सौंपता हूँ उसे दिल-दिमाग शौर्य-पराक्रम सपने सारे के …

सुखद अंत के लिए

महत्त्वपूर्ण बातें अंत में लिखी जाती हैं महत्त्वपूर्ण घोषणाएँ भी अंत में की जाती हैं और महत्त्वपूर्ण व्यक्ति भी अंत में आता है हम बहुत कुछ शुरूआत भी अंत …

संकट टला नहीं है

संकट टला नहीं है सटोरियों ने दाँव लगाने छोड़ दिए हैं चौखट के बाहर अप्रिय घटनाओं का बाजार गर्म है खिचड़ी नहीं पक रही आज घर में बंदूक के …

श्राद्ध-भोज

उदासी छँट चुकी थी जैसे कई-कई दिनों बाद छँटता है माघ में कुहासा दुख भरे बारह दिन और कोई फल पककर तैयार हो चुका हो तेरहवें दिन कि जैसे …

वेंटिलेशन

चिड़ियाँ बतिया रही थी कि हमारे हँसी-खुशी के सुकोमल दिन ख़त्म हो चले है जी घबरा रहा है इस सदी को देख कर इस बीच हमारे कई परिजनों ने …

विरासत

अर्सा गुज़र गया ज़मींदोज़ हो गये ज़मींदार साहब बहरहाल सब्ज़ी बेच रही है साहब की एक माशूका उसके हिस्से स्मृतियों को छोड कोई दूसरा दस्तावेज़ नहीं है फिलवक़्त, साहबज़ादों …

वक्त बूँदों के उत्सव का था

वक्त बूँदों के उत्सव का था बूँदें इठला रही थी गा रही थीं बूँदें झूम – झूम कर थिरक रही थीं पूरे सवाब में दरख्तों के पोर – पोर …

राइफ़ल

राइफलें जो किसी पत्ते की खड़खड़ाहट कि दिशा में तड़तड़ा उठी थीं और किसी संकट को टाल देने की विजय मुद्रा में चाहता था राइफलधारी मुस्कुराना जिसे बड़े ही …

मामूली आदमी का घोषणापत्र

मामूली आदमी हूँ असमय मरूंगा तंग गलियों में संक्रमण से सड़क पार करते हुए वाहन से कुचल कर या पुलिस लॉकअप में माफ़ करना मुझे अदा नहीं कर सकूंगा …

मज़े में हैं सारे

मज़े में हैं ईश्वर सारे ब्रह्मांड के ज्ञात-अज्ञात सहचर कीट-पतंग, अंधे-बहरे बाबा-भिखारी, ग्रीष्म और शरद माउस की-बोर्ड प्रेमी युगल साँसें धड़कनें पत्ते टहनियाँ शब्द मुहावरे सुख दुख स्वर्ग नरक …

प्रेमियों के रहने से

प्रेमियों के रहने से मरे नहीं शब्द मरी नहीं परम्पराएँ कंसर्टों में गाए जाते रहे प्रेमगीत लिखी जाती रही प्रेम कविताएँ बचाए जाते रहे प्रेमपत्र डोरिया कमीज़ के कपड़े …

नृपति उदास है

नृपति उदास है उसकी बेटी ने आज कोई कत्ल नहीं किया रक्त से आचमन ड्राइंग कक्ष में चांद-सितारों को क़ैद नहीं किया वाद्य यंत्रों की धुनाई, मौसमों को पिंजरे …

दुर्भाग्य पर एक मध्यमवर्गीय सोच

आप शापिंग की लिस्ट बनावें रिक्शा करें या स्कूटर विज्ञापन टटोलें कर्म में भरोसा रखें धर्म में विश्वास छोड़ें नहीं आप सोचें आपकी फितरत में है सोचना आनुवंशिक संक्रमण …

तानाशाह

सुनता है तानाशाह टैंकों की गड़गड़ाहट में संगीत की धुन फेफड़े को तरोताज़ा कर जाती है बारुदी धुएँ की गंध उसके लिए नींद लाती है धमाकों की आवाज़ तानाशाह …

तस्वीर में माँ और उनकी सहेलियाँ

अक्सर कुछ चीज़ें हमारी पकड़ से दूर रहती हैं अगली गर्मी फ्रिज खरीदने की इच्छा और बर्फबारी में गुलमर्ग जाने की योजना कई बार हमसे दूर रहता है वर्तमान …

जब हम मारे जाएंगे

जब हम बुन रहे होंगे कोई हसीन ख्वाब तुम्हारे बिल्कुल करीब आकर बाँट रहे होंगे आत्मीयता प्रेम व नग्न भाषा रच रहे होंगे कविताएँ तभी एक साथ उठ खड़े …

चालाकी

कंपकपाती ठंढ में आग की बोरसी दहकती गर्मी में ताड़ के पंखे और अंधेरे में लालटेन हैं मेरे पास लाता हूँ रोज़-रोज़ चोकर-खुद्दी खिलाता हूँ साग-पात धर में बकरियों-सी …

कौवे के बारे में

नहीं लगती कौवे की पंचायत बिजली के तारों पर घर के आस-पास काँव-काँव करते हुए कौवे ने अपनी मियाद पूरी कर ली है या कि अनायास खत्म हो गया …

एक ही वक्त में

एक युवक सोच रहा है धरती और धरती के बाशिन्दों के लिए यह समय बेहद खराब है सामने की छत से एक स्त्री छलांग लगाकर कूदना चाहती है पड़ोस …

उलझन सुलझते ही

उलझन सुलझते ही कुछ ने फेर लिया मुँह कुछ ने तोड़ लिया नाता कुछ जुट गए उलझन से त्रस्त लोगों की तलाश में और कुछ आ धमके उलझन भरे …

आधा सेर चाउर

आधा सेर चाउर पका बुढ़वा ने खाया — बुढ़िया ने खाया लेंगरा ने खाया — बौकी ने खाया कुतवा ने खाया चवर-चवर आध सेर चाउर नहीं पका बुढ़वा ने …

अफ़सोस के लिए कुछ शब्द

हमें सभी के लिए बनना था और शामिल होना था सभी में हमें हाथ बढ़ाना था सूरज को डूबने से बचाने के लिए और रोकना था अंधकार से कम …