Category: आनंद कृष्ण

धूप क दोहे

पिघले सोने सी कहीं बिखरी पीली धूप। कहीं पेड़ की छाँव में इठलाता है रूप। तपती धरती जल रही, उर वियोग की आग। मेघा प्रियतम के बिना, व्यर्थ हुए …

चांदनी

एक हिंदी ग़ज़ल : चांदनी क्या शरारत वहां कर रही चांदनी-? रात भर खिडकियों पर रही चांदनी। मैं तुम्हारे लिये गीत गाने लगा- इसलिये आजकल डर रही चांदनी। सब तुझे …

गर ज़मीं ……..

एक ग़ज़ल : गर ज़मीं …….. गर ज़मीं आशियाँ बनाने को- तो फलक बिजलियाँ गिराने को। किस तरह से कहें फ़साने को, हर तरह उज्र है ज़माने को। हमने चाहा …

चांदनी

एक हिंदी ग़ज़ल : चांदनी क्या शरारत वहां कर रही चांदनी-? रात भर खिडकियों पर रही चांदनी। मैं तुम्हारे लिये गीत गाने लगा- इसलिये आजकल डर रही चांदनी। सब तुझे …

इक मुसाफिर ने कारवां पाया

एक ग़ज़ल इक मुसाफिर ने कारवां पाया। कातिलों को भी मेहरबां पाया. मेरे किरदार की शफाक़त ने- हर कदम एक इम्तिहाँ पाया। जुस्तजू में मिरी वो ताक़त है- तुझको …

तुम मुझसे बस शब्द और सुर ले पाये

तुम मुझसे बस शब्द और सुर ले पाये- पर बोलो ! कैसे छीनोगे मुझसे मेरे गीत-? मुझको तो बस गीत सुनाना आता है, होंठो पर संगीत सजाना आता है गहरा …

सूखते होंठों पे हमको तिश्नगी अच्छी लगी

सूखते होंठों पे हमको तिश्नगी अच्छी लगी। जिंदगी जीने की ऐसी बेबसी अच्छी लगी। इस नुमाइश ने दिखाए हैं सभी रंजो-अलम- इस नुमाइश की हमें ये तीरगी अच्छी लगी …

इक मुसाफिर ने कारवां पाया

एक ग़ज़ल इक मुसाफिर ने कारवां पाया। कातिलों को भी मेहरबां पाया. मेरे किरदार की शफाक़त ने- हर कदम एक इम्तिहाँ पाया। जुस्तजू में मिरी वो ताक़त है- तुझको …

रोक पाएंगीं क्या ………

एक ग़ज़ल : “रोक पाएंगीं क्या ………” रोक पाएंगीं क्या सलाखें दो-? जब तलक हैं य’ मेरी पांखें दो । जिसने सबको दवा-ए-दर्द दिया- आज वो माँगता है- साँसें दो …

कोई हमदम या……………

ग़ज़ल : कोई हमदम या…………… कोई हमदम या कोई कातिल दो। मेरी कश्ती को एक साहिल दो. अब तो तन्हाइयां नहीं कटतीं- दे रहे हो तो दोस्त-महफ़िल दो। चांदनी में …

बाद मुद्दत के …….

एक ग़ज़ल : बाद मुद्दत के ……. बाद मुद्दत के इक हंसी देखी। एक मजलूम की खुशी देखी। उनको देखा तो यूँ लगा मुझको- जैसे बर-बह्र शाइरी देखी। दिल के …

वे संबोधन

एक गीत ;”वे संबोधन—-” वे संबोधन याद करो । अपने विगत क्षणों से प्रियतम- थोडा तो संवाद करो । अधरों ने विस्मृत करने का बहुत अधिक आयास किया है । …

गीत गाते रहे गुनगुनाते रहे

गीत गाते रहे गुनगुनाते रहे। रात भर महफिलों को सजाते रहे। सबने देखी हमारी हंसी और हम- आंसुओं से स्वयं को छुपाते रहे। सुर्ख फूलों के आँचल ये लिख …