Category: अभिषेक उपाध्याय

जल रहा हैं हिन्दुस्तान

“आरक्षण की आग मे जल रहा हैं हिन्दुस्तान”, शिक्षा नौकरी पाने को बिक रहे हैं कई मकान, ठोकरे मिलती हैं यहा मिलता नही हैं ग्यान…. “आरक्षण की आग मे …

अपनी सोच बदल नहीं पाया

मैं अपनी सोच बदल नहीं पाया तेरे लिए , तुझको देखा है मैने बंद कमरे में शिसक-शिसक के रोते हुए।   मैंने .. तुझे माँ के रूप में पाया था …

मिलो- नमिलो हकीकत में तुम

मिलो न मिलो हकीकत में तुम,  तो क्या गम है,   ख्वाबों का सहारा लेलेंगे .    किस्मत में नहीं किनारे अगर,     तेरी  यादों के समुन्दर में खुद को डुबो लेंगे.    …