Category: अभिषेक राजहंस

मैं लौट आऊँगा

शीर्षक –मैं लौट आऊँगा मैं रेत पे खींची लकीर नहीं जो मिट जाऊँगा मैं अतीत का वो हिस्सा नहीं जो दोहराया ना जाऊँगा मै तुम्हारे आँखों का आँसू नहीं …

दीवाली बीतनी जरुरी है

शीर्षक-दिवाली बीतनी जरुरी है हम हर साल जलाते हैं रौशनी से भरी मिटटी के दीये रुई की बातियाँ जलती हैं रौशनी के लिए हम जलाते दीये गणेश लक्ष्मी की …

मेरी गजल– दर्द- ऐ -गजल भाग 03

मेरी गजल – दर्द ऐ गजल भाग – 03 १ मैंने प्यार में संभलना सीखा तेरे इंतज़ार में जीना सीखा तेरे लिए मरना सीखा तुमने नजरो से साजिश किया …

मनुष्य की पहचान

******मेरी दूसरी रचना–मनुष्य की पहचान****** तुम एक मनुष्य हो अपनी मनुष्यता को पहचानो तुम धीर हो अपनी धीरता को पहचानो तुम कर्मवीर हो अपनी कर्मवीरता को पहचानो तुम प्राणियों …

ऐसा था तेरा -मेरा प्यार

शीर्षक-ऐसा था तेरा-मेरा प्यार तेरा मेरा प्यार पहली नजर का प्यार नजरो का नजरो से करार कभी धड़कने बढाती कभी जिया चुराती कभी बजाती पायल की झंकार ऐसा था …

मैं रहता कहाँ हूँ

मुझे नहीं पता मैं रहता कहाँ हूँ खुद को भुला कर ढूंडता क्या हूँ किस्से अपने जज्बातो के मैं कहता कहाँ हूँ मैं सुनाता कहाँ हूँ है दर्द तुमने …

भारत देश है मेरा

शीर्षक-भारत देश है मेरा जहाँ सात रंगों सी सतरंगी मिट्टी जहाँ बारिश में नाचते मोर हवाएं बहती जहाँ पुरजोर जहाँ सूरज धुप की पीठ थपथपाये जहाँ किसान खेतो में …

मैं जिन्दा रहता हूँ

शीर्षक–मैं जिंदा रहता हूँ सूरज की पहली किरण जब रोशनदान से चेहरे पर पड़ती है मैं आँखे मीचते हुए बिस्तर से उठ जाता हूँ पिताजी के संग लॉन में …

तस्वीर

शीर्षक–तस्वीर समय के चादर से निकाली वो तस्वीरो का अलबम वो बचपन का किस्सा वो ज़िन्दगी का हिस्सा यादो का बगीचा कुछ धुंधला सा तस्वीर में कभी आँखों का …

हिन्द की हिंदी

शीर्षक-हिन्द की हिंदी उपेक्षाओ के भंवर में दम तोडती हुई सिसकियाँ लेती हुई अपना वजूद बचाने की जद्दोजद में कभी अंग्रेजो की अंग्रेजी ने दम तोड़ा कभी अपनों ने …