Category: कृष्ण सैनी

दीपावली

रावण मार के घर को आये,खुशी हुई बड़ी भारी…. दीप जलाके मने दीवाली,फैल रही उजियाली… मात कैकई वर मांगा था,राम जाये वन को… सुन माँ की इच्छा खातिर,छोड़ दिया …

सरकार राजस्थान की

सरकार राजस्थान की,गजब ढो रही है. ले जाने के गर्त में,वो बीज बो रही है. महारानी ने फैलाया अब,मक्कारी का जाल है. रात -दिन उड़ाती वो,धन दौलत और माल …

प्रेम-रंग………………कृष्ण सैनी

जुल्फे जब उसकी उड़ती काली… मदपुरित मदिरा सी भरती हरीयाली… आलिंगन और स्पर्श अलौकिक… तुच्छ न्यून और सुख भौतिक… ज्ञान. धर्म, मर्म, वह सब… दैनिक द्वंद मिटाती जैसे रब …

प्यार दिखा के गौरी तुमने

प्यार दिखा के गौरी तुमने शमशीर मेरे चुबो दिया… सबकुछ छोड-छाड के संग मे मै तो तेरे आया था देगी ऐसी दगा तु मुझको कभी नही भरमाया था जिस …

प्यार……… कृष्ण सैनी

ना हो शब्दो से बयाँ ये ना ही कोई परिभाषा हर किसी के मन मे है दिलेस्पर्श की अभिलाषा काम है इसका दो रूहो को जोड़ना आसाँ नही इसे …

भज ने मे उनको आये मजा

भज ने मे उनको आये मजा-2 बडा ये प्यारा है,मेरे श्याम का नाम बडा ये निराला है,मेरे श्याम का नाम (1)देख के बाबा के दर को, लुले-लंगडे भी बजाते …

यह रचना “बेटियाँ” प्रतियोगिता में सम्मलित की गयी है।

“माँ मैने क्या कसूर किया” नामक शीर्षक से प्रकाशित मेरे द्वारा रचित रचना http://sahityapedia.com प्रतियोगिता में शामिल है |अतः आपसे अनुरोध है | यदि आपको मेरी रचना पसंद आये …

कलयुग के बाबा श्याम

कलयुग मे कृष्ण अवतार लेके आये थे बाबा श्याम पुजे जायेंगे कलयुग मे लिया था कृष्ण से वरदान हारे का मै बनुंगा सहारा माँ को दिया था इसने मान …

श्रवण कुमार

ऋषि शांतनु का बेटा वह नाम श्रवण कुमार था माँ-बाप की खातिर जिसने कर दिया जीवन कुर्बान था दृष्टिहीन मात-पिता थे उसके वही एक सहारा था माता-पिता की आज्ञा …

आज हम नववर्ष बनायेंगे

आज हम नववर्ष मनायेंगे खूब पार्टी मे पैसा उडायेंगे दारू मांस मछली और अंडा जी भर कर खायेंगे भारतीय संस्कृति को आज रखेल बनायेंगे आज हम नववर्ष मनायेंगे माँ …

जग मे मिलेगा बहुत ही मान

अरे नादान तु क्यो हो रहा है हैवान तुझे क्या चाहिये अब तो बन तु इंसान पाप-पुण्य का ज्ञान नही तुझे मानुष होकर हुआ बेईमान जीवन व्यर्थ गवाया तूने …

जिन्दगी का सच

आज मै आपको मृत्यू शैया पर पडे व्यक्ति की बात बता रहा हू, तो प्रिय पाठको कृपया ध्यान लगाकर पढेंगे-: (1) भगवन तुने क्या अजब लीला रचाई इंसान रूपी …

एड्स पर भारत कि करुण पुकार

1 दिसम्बर को एड्स दिवस पर भारत माता कि अपने भक्तो से करुण पुकार:- एड्स के देखो बढेँ रोगी एड्स के देखो बढेँ रोगी ईकी होरी हाहाकार नैया मेरी …