Tag: shashank hirkaney poetry

कब तक सहेगी और अत्याचार बेटियाँ

सूने से जो आंगन मे रंगोली सजा दे, चाहे वो जिस दिन को भी दिवाली बना दे, हर एक दिन को बेटियां त्योहार बना दे, मामूली घर मे खुशियो …