Tag: प्यार पर कविता

यादों के चिराग़ – दीप्ति गोयल

महकता है ये तन मेरा जब भी ख़्याल आता है जेहन में तेरा दूर रहकर भी ना टूटे तुझसे मन का वो नाता है मेरा। गुज़रेगा वक्त बदलेंगे हम …

मुहब्बत और भरोसा- शिशिर मधुकर

मुहब्बत में दीवाने जन…जिस घड़ी बात करते हैं प्रणय के देवता तब…फूलों की बरसात करते हैं किसी के मन में बस जाए छवि जो कोई हौले से बसर उसके …

वो इत्तफाक नहीं – शिशिर मधुकर

मेरे हाथों में तेरा हाथ… जब भी आता है मैं दिल के पास हूँ तेरे..पता चल जाता है तेरे सीने से लग…मुझको सुकून मिलता है सारे ग़म छोड़ के…ये …

चुप रहने वाले – शिशिर मधुकर

सदा चुप रहने वाले जिससे खुल के बात करते हैं बसर उसकी मुहब्बत में ही वो दिन रात करते हैं दिल के हाथों यहाँ मजबूर… सारे हो ही जाते …

बस रिश्ते निभाने में – शिशिर मधुकर

गुज़र जाती है सारी उम्र बस एक प्यार पाने में मुझे तो हार मिलती आई है संगदिल ज़माने में मुहब्बत के लिए मैं ज़िन्दगी भर प्यास से तड़पा सुबह …

चिड़िया

शाम बढ़ती जा रही थी बेचैनी उमड़ती जा रही थी शाख पर बैठी अकेली दूर नजरों को फिराती कुछ नजर आता नहीँ फिर भी फिराती चीं चीं करती मीत …

हर घड़ी ख़ास होती है (२) – शिशिर मधुकर

मुहब्बत ज़िंदगी में जब किसी के पास होती है उमंगें दिल में रहती हैं घड़ी हर ख़ास होती है दौर अच्छे बुरे तो हर किसी जीवन में आते हैं …

हर घड़ी ख़ास होती है – शिशिर मधुकर

मुहब्बत ज़िंदगी में जब किसी के पास होती है उमंगें दिल में रहती हैं हर घड़ी ख़ास होती है ज़िंदगी जीने की खातिर दूर रहना भी पड़ता है मिलेंगे …

शिकन तन्हाइयां – शिशिर मधुकर

मुहब्बत ज़िन्दगी में जब किसी के साथ होती है दवा हर ग़म की उस इंसा के अपने हाथ होती है जिन्हें मिलती नहीं ये नेमतें दुनिया में चाहत की …

पता चल जाता है – शिशिर मधुकर

पता चल जाता है अपना कोई जब याद करता है किसी की छवियां सीने में जो भी आबाद करता है नज़र के सामने आ जाए वो प्यारा हमकदम जल्दी …

जहाँ छाया मिली – शिशिर मधुकर

राहे मुहब्बत में कभी तो नाम कर लिया बना के दूरियां तुमने खुद को फिर आम कर लिया कभी होठों से लग के जो मेरी नस नस में पहुंचा …

प्रेम तो किस्मत से मिलता है-शिशिर मधुकर

मुहब्बत जिन को होती है कभी रूठा नहीं करते फक़त दुनिया की मर्ज़ी से हाथ छूटा नहीं करते आईना धुंधला हो जाए छवि दिखला ही देता है बिना पत्थर …

नैन पर फिर भी मिल गए – शिशिर मधुकर

छुपाया बहुत खुद को नैन पर फिर भी मिल गए असर ऐसा हुआ दिल पे फूल खुशियों के खिल गए खौफ ने इस कदर घोला है ज़हर फ़िज़ा में …

प्रेम धागे का बंधन – शिशिर मधुकर

तेरे बिन दिन नहीं कटते तुझे कैसे बताएं हम तू ही जब पास ना आए तुझे कैसे सताएं हम तेरा वो रूठ जाना और मनाना याद आता है समझ …

बस तेरे लब के बोसे हैं – शिशिर मधुकर

मुहब्बत खुशियाँ देती है मगर ग़म भी परोसे है ये मुस्कान जानेमन बस अब एक तेरे भरोसे है भिगो देता है ये सावन जब भी मुझको हौले से यूँ …

फिर सो ना सका – शिशिर मधुकर

मैंने सोचा बहुत मैं भुला दूँ तुम्हें लेकिन ये मुझसे हो ना सका तेरी छवियां ना दिखला दें आंसू मेरे मैं तो जहाँ में रो ना सका उल्फ़त की …

तेरी चाहतों के जैसा – शिशिर मधुकर

चाहा बहुत ना दिल से तुझे दूर कर सके भूलूँ तुम्हें ना वो मुझे मजबूर कर सके आनंद वो मैंने पा लिया जिसकी तलाश थी बाकी नशे ना मुझको …

सीने से लग जाओ – शिशिर मधुकर

मुझे कह दे तो कोई प्यार से सीने से लग जाओ मेरी आँखों में आँखें डाल के नींदों से जग जाओ मुहब्बत की पनाहों में सुख कुछ मिलता है …