Tag: दीपावली पर कविता

गीत : मिटटी वाले दीप

मिट्टी वाले दीये जलाना जो  चाहो  दीवाली  हो उजला-उजला पर्व मने कही  रात  न काली हो मिटटी वाले…………….. जब से चला चायना वाला, कुछ की किस्मत फूट गयी विपदा …

तम दूर भगाएं

अंदर का अंधकार मिटायें, धरती का तम दूर भगाएं. घनघोर निराशा अन्धकार छाई है, हर ओर अन्धकार आज भाई है. मर रही मानवता से ये तबाही है, चहूँ ओर …

दिवाली

ये दिवाली, वो दिवाली घर में खुशियाँ, लाये दिवाली ! बम चकरी, और फूलझरी सब से ये, बजवाये दिवाली !1! सबको पास, बुलाये दिवाली अपनों को, मिलवाये दिवाली ! …