Tag: सामाजिक विसमतांओं /ग़रीबी पर कविता

भूख..एक सवाल ??

भूख..एक सवाल ?? बेजान सूनी आँखें, सुख गये आँसू,नज़र धुँधलाते दाँत कसकर भींचे, “वे” भूख को अंतढ़ीयों में दबाते “वे” देते अभिशाप उस ख़ुदा को जिस कारन “वे” रोते …

भगवान का निवास

भगवान का निवास वेद-पुराण के परिभाष कण-कण में इश्वर का वास जीव-निर्जीव सब में निवास फिर स्वर्ग में, या वेकुंठ में प्रवास मैं अज्ञानी मुझे नहीं आभास बताये मन्दिर …