Tag: जुदाई की कविता

फिर कब मिलोगे

जाने कहाँ फिर, मुलाक़ात हो जाने कहाँ फिर, मिले ना मिले फिर कब मिलोगे, बताओ मुझे हर वक्त हमेशा, याद आओगे तुम्हारी तरह, मैं भी आया यहाँ तुमसे मिला, ज्ञान …