Tag: poem

संयुक्त व मज़बूत भारत – अनु महेश्वरी

बच्चों पे ज़्यादा सख्ती, उन्हें झूठ बोलना सिखाती है, उनपे ज्यादा नरमी भी, राह से उन्हें भटका सकती है, जीवन में संयम और अनुशासन के साथ, चरित्रवान वो बने, …

ऑक्सीजन – अनु महेश्वरी

जब तक है स्वस्थ, निःशुल्क मिलती, हवाओं से, फायदा उठा, प्राणायाम रोज किया करे| हो गए बीमार अगर, दवाओं के साथ, तब, ऑक्सीजन की भी, कीमत लग सकती| जब …

लोग क्या कहेगें – अनु महेश्वरी

बड़ी ही उलझन है, हम सबकी ज़िन्दगी में, “लोग क्या कहेंगे”, यह बात एक न एक बार, हम सबने, अपने बड़ो से, सुनी ज़रूर होगी| कौन है यह लोग? …

ईश्वर का अस्तित्व – अनु महेश्वरी

मेरे साथ घटने वाली, घटना अच्छी हो या बुरी, भगवान में मेरा विश्वास, कभी न डगमगा पायी। बल्कि मेरा तो विश्वास प्रबल हुआ है और भी। अच्छी घटना को …