Tag: शुन्य

दिलों को जोड़ती है कविता

दिलों को जोड़ती है कविता दीवारे तमाम सारी तोड़ती है कविता खो गया है आदमी दूनिया के मेले में घर की ओर राहें मोड़ती है कविता आसान नहीं है, …