Tag: hindi kavya sankalan

हम सब बच्चे एक बाग़ लगाते हैं… Raquim Ali

भाग -1 दस बच्चों का खेल-खेल में एक बनाया गोला सोनू ने चिल्ला-चिल्ला कर सब बच्चों से यूं बोला- ‘चलो छोटू, चलो मोटू चलो मंटू, चलो संटू चलो चिंटू, …

मगर, वह है कि नहीं आती (भाग-3)…Raquim Ali

भाग-3 29.06.2017, सुबह: पांच दिन के बाद जब मैं निवास पर वापस अकेले लौटा: दो बच्चे आँखे बंद, घोंसले में सुस्त पड़े दिखे मुझको तीसरे अंडे का क्या हुआ, …

कवि पति – समझदार पत्नि: संवाद…Raquim Ali

‘कवि पति – समझदार पत्नि’ संवाद ( नींद में, कवि) पति : ‘ख़ूबसूरत सा मेरा ख़्याल है, यही चल रहा है मेरे मन में खूबसूरत तेरा भी ख्याल होगा, …

अब तक वे एक नहीं हो पाए हैं…Raquim Ali

आसमान, जमीन, सितारे, शय्यारे, सूरज, खला समुन्दर, पहाड़, नदियां, झील, पानी, चाँद, हवा; जो सब ये चीजें आज मौजूद हैं, कभी तो पैदा किए गए होंगे कोई तो होगा …

मुस्कुराहट…Raquim Ali

मुस्कुराहट 1. अपनों की: देखीं, ख़ुशी की कभी शरारत की मुस्कुराहटें। ममता भरी जो मुस्कराहटें थीं अभी याद हैं। डांट से युक्त वालिद की मुस्कानें लाज़वाब थीं। ………………………. 2. …

गैया मैया के क़ातिल कौन?… Raquim Ali

गैया मैया के क़ातिल कौन? गैया मैया के क़ातिल कौन? मुझे भी है फ़िक्र, मैंने इस पर किया खूब सोच-विचार खंगाला, तो इस नतीज़े पर पहुंचा, मेरे भाई, मेरे …

ख़ुदा उनके, वे ख़ुदा के क़रीब रहते हैं…Raquim Ali

*ख़ुदा उनके, वे ख़ुदा के क़रीब रहते हैं* इल्म व आमाल से, जो हैं रोशन जिंदा हैं वे, जिंदग़ी है उनकी वाज़ करते हैं जो सीधी राहों की और …

वाह रे इंसान-Raquim Ali

…भाग -१… वाह रे इंसान कहां पहाड़-समंदर-गहरी खान छोटा-सा कद, पर लेता है सबको छान आकाश छू लेने का पाले रहता अरमान! प्रतिफल है उसकी प्रबल इच्छा-शक्ति का दुनिया …