Tag: गीत

मैं सैनिक हूँ

मैं सैनिक हूँ मैं जगता हूँ रातभर चौकस निगाहें गड़ाए हुए उस जगह जहाँ अगली सुबह देख पाऊं इसमे भी संशय है उसके लिए जो अभी अभी छाती से …

दो दूना बाइस — डी के निवातिया

दो दूना बाईस — बेवजह में वजह ढूंढने की गुंज़ाइश चाहिये ! काम हो न हो पर होने की नुमाइश चाहिये !! कौन कितना खरा है, किसमे कितनी खोट …

चिड़िया

शाम बढ़ती जा रही थी बेचैनी उमड़ती जा रही थी शाख पर बैठी अकेली दूर नजरों को फिराती कुछ नजर आता नहीँ फिर भी फिराती चीं चीं करती मीत …

मैं बदली हूँ, बस नीर भरी…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

मैं बदली हूँ, बस नीर भरी… बिन बरसे, बरसूं हर घडी… मैं बदली हूँ बस नीर भरी… सावन आये लाये बौछार.. शोलों सा वो करें प्रहार… मन मेरा करे …

सांवरे तेरे प्यार में……………….दीवानी हो गयी |भजन| “मनोज कुमार”

सांवरे तेरे प्यार में, गिरधर बातों के जाल में राधा तेरी रानी, दीवानी हो गयी, दीवानी हो गयी कानन कुंडल की ये, मोहिनी मूरत की ये मोहन तेरी रानी, …

विजय दिवस है, आज तिरंगा ऊँचा है………….. |गीत| “मनोज कुमार”

नाचो झूमो गाओ साथी आओ आओ साथी मिलके गाओ आओ विजय दिवस है, आज तिरंगा ऊँचा है मिलके ख़ुशी मनायें, तिरंगा ऊँचा है ऊँचा है तिरंगा अपना ऊँचा है …

आया आया राखी का त्यौहार रे – डी के निवातिया

राखी का त्यौहार *** आया आया राखी का त्यौहार रे लाया लाया खुशियों का उपहार रे भाई बहन के अटूट प्रेम का बंधन छाया छाया सावन में ये खुमार …

आ जाओ न अब साजन…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

सावन की रुत भीगा मौसम…. भीगा है मेरा मन….. राह मैं तेरी देखूं हर पल…. आ जाओ न अब साजन…. मेहंदी रचा हाथों पे मैंने… नाम तेरा छुपाया उसमें…. …

लग गया है…………. रोग सजना |गीत| “मनोज कुमार”

लग गया है प्यार का ये रोग सजना जाता नही कैसा है ये रोग सजना लाइलाज बीमारी है तड़पूँ सजना लग गया है तुमसे ये दिल सजना लग गया …

रटले रटले………….. भोले बाबा|भजन| “मनोज कुमार”

रटले रटले नाम मनवा, शिव शंकर भोले बाबा करलो मन से शिव की भक्ति, शिव सुधा की हैं धारा रटले रटले नाम मनवा, शिव शंकर भोले बाबा रटले रटले………………………………………………. …

माँ से प्यारा…… सुख सारा है |गीत| “मनोज कुमार”

माँ से प्यारा इस जग में ना, हमको कोई प्यारा है माँ की सेवा कर लो, इसके चरणों में सुख सारा है माँ से प्यारा……………………………. सुख सारा है ये …

८३. मेरे पापा हैं…………..“मनोज कुमार”

मेरे पापा हैं पापा हैं तो क्या है ? पापा हैं विश्वाश हैं उत्सुकता और आस है शक्ति का संचार है मम्मी का भी प्यार है सबसे अच्छे यार …

आज अकेले यूँ न तुम रहते – अनु महेश्वरी

अब क्यों रोए, भाग्य को अपने, जब चेता नहीं कभी समय रहते| सारा जीवन बिता दिया, बस धन इकट्ठा करने में, कभी न समय दे पाए, मित्र और परिजन …

मानव धर्म को निभा सकें हम – अनु महेश्वरी

हे प्रभु हमें इतना संतोष दे दो, ताकी पास जो है हमारे, उसमे, खुश रह सकें हम| हे प्रभु हम में इतनी दया भर दो, ताकी सामर्थ्य अनुसार औरो …

८०. बस इतनी तमन्ना है………….. गले लगा जाओ |भजन| “मनोज कुमार”

बस इतनी तमन्ना है, गौरा के साथ में आ जाओ बस इतनी तमन्ना है, नन्दी के साथ में आ जाओ आ जाओ शिव आ जाओ, कैलाश के वासी आ …

७९. हमें भी अपना लो……….. भस्मी रमने वाले |भजन| “मनोज कुमार”

हमें भी अपना लो मेरे, नाथ डमरू वाले आ जाओ कैलाश से, ओ भस्मी रमने वाले हमें भी अपना लो……………………………….. भस्मी रमने वाले तुम जीवन देने वाले, दया के …

७८. जिन्दगी है तू ही…………………. तू ही प्रीत है |गीत| “मनोज कुमार”

जिन्दगी है तू ही और तू ही मीत है तू साँसें तू धड़कन तू ही गीत है तू आशा मिलन तू ही संगीत है तू चाहत है दौलत तू …

७४. महोब्बत…………….. हो गयी है |गीत| “मनोज कुमार”

महोब्बत हो गयी है हो गयी है हो गयी है कसम से यार जानेमन महोब्बत हो गयी है तुम्हीं से यार बेइन्तहा महोब्बत हो गयी है महोब्बत हो गयी …