Tag: dharti poem

धरती माँ की पुकार-पियुष राज

धरती माँ की पुकार मच गया है हाहाकार धरती मां की सुनो पुकार मत काटो तुम पेंड़ो को बंद करो ये अत्याचार होती है तकलीफ मुझे जब काटते तुम …