Tag: बिढ़म्बना

यों ही..कुछ… बात या बेबात…….(विडंबना की)!!!

यों ही..कुछ… बात या बेबात…….(विडंबना की)!!! कई कई शाम उनके नाम हम ने,कई कई पैगाम लिखे थे, कसमे ,वादे,इज़हार किया था उम्र भर का साथ निभाने; प्यार जताने, पत्थर …

यों ही ..कुछ …बात या बेबात, ऐसे ही !!

यों ही ..कुछ …बात या बेबात, ऐसे ही !! शाम हुई,दीये जले,तारे भी धीरे धीरे परवाने निकले, रोशनी के दीवाने सारे हुस्न का चढ़ता रंग,बेताबी चहरे के परे रात …