Tag: भक्ति गीत

३६. भोले तेरा रूप ……………..|भजन| “मनोज कुमार”

भोले तेरा रूप अनूप हमको लगता है प्यारा परम् पिता परमेश्वर भोला हमको लगता है प्यारा शिव शंकर डमरूवाला लगता है बड़ा प्यारा भोले तेरा रूप ……………………………..है बड़ा प्यारा …

३५. श्री राम प्रभु के चरणों में ………….|भजन| “मनोज कुमार”

श्री राम प्रभु के चरणों में गुणगान मैं करने आया हूँ प्रभु की भक्ति करने को मैं गीत उन्हीं के गाया हूँ श्री राम प्रभु………………………………………….के गाया हूँ सुबह शाम …

मुक्तक ः उत्कर्ष

पास तुम्हारे मोहन बैठा, नजरें कहाँ निहार रही ? कहाँ तुम्हारा चित है डोला, क्या तुम सोच-विचार रही ? सुन राधे मैं हूँ बस तेरा इसी बात का ध्यान …

१३.उपकार ये शिव हमपे कर दो ………….|भजन|– “मनोज कुमार”

उपकार ये शिव हमपे कर दो हमें अपना लो कृपा कर दो ……………. हम हैं नादान हम अज्ञानी अब नही हैं कोई साथी भी मुझे अपनी पनाह में शिव …

हे कान्हा….

हे कान्हा…. हे कान्हा…अश्रु तरस रहें, निस दिन आँखों से बरस रहें, कब से आस लगाए बैठे हैं, एक दरश दिखाने आ जाते… बरसों से प्यासी नैनों की, प्यास …

माँ सरस्वती वन्दना

शीघ्र जाग इश्वर से नित मे पुरा ध्यान लगाउगा मधुर वचन सच सन्यम से समा सद्पयोग कराउगा चित्त प्रसन्न आत्म्बल से कर्तव्य परायण बनाउगा चरित्रहीन अत्याचारी को कभी गले नही लगाउगा