Tag: ( ग़ज़ल )हर पल याद रहती है निगाहों में बसी सूरत

( ग़ज़ल )हर पल याद रहती है निगाहों में बसी सूरत

सजा क्या खूब मिलती है किसी से दिल लगाने की तन्हाई की महफ़िल में आदत हो गयी गाने की हर पल याद रहती है निगाहों में बसी सूरत तमन्ना …