Tag: ग़ज़ल (बचपन यार अच्छा था)

ग़ज़ल (बचपन यार अच्छा था हँसता मुस्कराता था)

ग़ज़ल (बचपन यार अच्छा था हँसता मुस्कराता था) जब हाथों हाथ लेते थे अपने भी पराये भी बचपन यार अच्छा था हँसता मुस्कराता था बारीकी जमाने की, समझने में …