Tag: व्याकुल इंसान

व्याकुल इंसान – – – डी के निवातिया

व्याकुल इंसान   दरखत झूमे, सरोवर तीर, निर्झर निर्झर बहे बयार पर्ण:समूह के  स्पंदन से, सरगम की निकले तान शीतल प्रतिच्छाया में, पंछी समूह करते विहार मानुष त्रस्त अविचल, …