Tag: वतन की किस्मत

वतन की किस्मत — डी के निवातिया

वतन की किस्मत *** गूंगो – बहरो ने मिलकर महफ़िल सजाई है मिलजुलकर खाने खिलाने की कसमे खाई है बारी बारी से बदलते रहते है अपनी कुर्सियां क्या खूब …