Tag: रावण बदल के राम हो जायेंगे

रावण बदल के राम हो जायेंगे—डी. के. निवातिया

खुली अगर जुबान तो किस्से आम हो जायेंगे। इस शहरे-ऐ-अमन में, दंगे तमाम हो जायेंगे !! न छेड़ो दुखती रग को, अगर आह निकली !   नंगे यंहा सब …