Tag: राम राज़ की ओट में

राम राज़ की ओट में — डी के निवातिया

राम राज़ की ओट में *** राम राज़ की ओट में, पनपे रावण राज। जनसेवक राजन बने , गर्दन काटे आज । गर्दन काटे आज , वचन बोले कर …