Tag: रण भेरी

रण भेरी—कुण्डलिया छन्द—डी के निवातिया

कुण्डलिया छन्द एक छोटा सा प्रयास आब सबकी नजर हाथ जोड़ सब चल पड़े, नेता चारो ओर ! किसकी झोली क्या मिले, रात जगे या भोर !! रात जगे …