Tag: मोहब्बत कर बैठे

मोहब्बत कर बैठे – ग़ज़ल – सर्वजीत सिंह

मोहब्बत कर बैठे मोहब्बत कर तो बैठे हम पर मोहब्बत करने में नादान थे कभी मिलती है ख़ुशी तो कभी गम इस बात से अन्जान थे मोहब्बत की थी …