Tag: मैं और तू

मैं और तू — डी. के. निवातिया

मैं और तू *** शीर्ष लोम से चरण नख तक एक तेरे ही नाम से बंधी हूँ मैं अंग अंग किया अर्पण तुझ पर सौगंध के वचनों में सधी …