Tag: मेरा ठिकाना —१०—मुक्तक —-डी. के. निवातियाँ

मेरा ठिकाना–१०—मुक्तक—-डी के निवातिया

सीना ताने खड़ा रहूँ, हर पल दुश्मन हो निशाना अंत घडी जाये प्राण, लबो पे हो जयहिंद का नारा चाह नही मुझे किसी, धन दौलत या शोहरत की देश …