Tag: मुहब्बत किस कद्र बदनाम हुई

मुहब्बत किस कद्र बदनाम हुई — डी के. निवातिया

ना पूछो मुहब्बत किस कद्र बदनाम हुई फ़ज़ीहत आजकल जमाने में आम हुई जिस्म के भूखे है लोग, प्रेम क्या जाने सुबह मिले, शाम तक काम तमाम हुई !! …