Tag: माँ पर बाल कविता

माँ (बाल कविता)

*’माँ’ बाल कविता (ताटंक छंद)* हे! माँ तेरी सूरत जग में, मुझको लगती प्यारी है। तेरे बिन घर-मन्दिर सूना, सूनी दुनिया सारी है। हट्टा-कट्टा हूँ फिर भी माँ दुबला …