Tag: मना

**एक पुरानी नज़्म::Er Anand Sagar Pandey**

एक बहुत पुरानी लेकिन अज़ीज क़ाफियामय नज़्म- 212 212 212 212 **मुझे आज मुझको मना लेने दे** मुझको बिछड़े हुए मुझसे मुद्दत हुई, आज सीने से खुद को लगा …