Tag: बेइमान बहुत है

बेइमान बहुत है—–(डी.के. निवातियाँ )

लोग शहर के अनजान,एक दूजे से हैरान बहुत है ! देखकर हालात इंसानियत के, दिल परेशान बहुत है !! बिकता है देखो मजहब आज आतंक के इस बाजार में …