Tag: बाल कवीता

बाल कविता(चौपई छंद)

तोता दिन भर जपता नाम रघुपति राघव राजा राम आगन्तुक को करे प्रणाम संग पपीता खाता आम।। बंदर मामा करते शोर दौड़ लगाते चारो ओर बागों को देते झकझोर …