Tag: नाज़ुक

नाज़ुक – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

नाज़ुक बहुत नाज़ुक होता है रिश्ता मोहब्बत का जो ज़रा सी ठेस से ही टूट जाता है …………………. चाहे लाख वादे कर लो साथ जीने मरने के पर ज़रा …