Tag: दोहा गीत

मैंने इस संसार में, झूठी देखी प्रीत—महावीर उत्तरांचली

मैंने इस संसार में, झूठी देखी प्रीत मेरी व्यथा-कथा कहे, मेरा दोहा गीत मैंने इस संसार में …. मुझको कभी मिला नहीं, जो थी मेरी चाह सहज न थी …