Tag: दे कलम को धार

दे कलम को धार — ग़ज़ल-नज्म — डी. के. निवातियाँ

दे कलम को धार अब तलवार बनाना होगा ! भर लफ्जो की हुंकार हथियार बनाना होगा !! जब बात बने ना मान मुनव्वल से, जान लो अपने डंडे की …