Tag: दूर करके

दूर करके

हे मुरलीधर,हे मनोहर मेरे अधर तुझे बुलाते हैं कचोट रहे कलयुग में मुझको जो तेरा मज़ाक उड़ाते हैं हे चितचोर ,बांके बिहारी चोरी का इल्जाम लगाते हैं ये अंधे …