Tag: दिलबर यार कैसा

दिलबर यार कैसा……………..(ग़जल)

हो न सके जो हमराज, वो दिलबर यार कैसा। सुने न दिल कि आवाज,बिन इजहार प्यार कैसा ।। यूँ तो बाते कर लेता हर कोई रूह को छू न …