Tag: कुण्डलिया छंद

मन….सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…..

मन गोरी का महकता, कमर मटकत नाहीं…. राख गगरी सर उसने, कमर लियो मटकाए…. कमर लियो मटकाए, सब ससुरा पागल भयो… होश बिसरि देखि जो, घरवाली ने धर लियो…. …